रजिस्टर्ड फार्मासिस्टों को मिली राष्ट्रीय स्तर पर पहचान

डॉक्टर, वकील की तरह अब रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट भी देश भर में मोनोग्राम का उपयोग कर सकेंगे। भारत में फार्मासिस्टों के लिए कोई मोनोग्राम नहीं था।

आवेदन के बाद मिनिस्ट्री ऑफ ट्रेड ने पाँच सदस्यीय कमेटी गठित कर फार्मासिस्ट फाउंडेशन से मोनोग्राम का प्रारूप मांगा गया था। मिनिस्ट्री ऑफ कॉमर्स एंड ट्रेड ने मोनोग्राम के लिए पत्र जारी कर दिया है। इससे फार्मासिस्ट की पहचान करना आसान हो जाएगा।

अब सभी रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट इस लोगो का उपयोग अपने मेडिकल स्टोर तथा फार्मा क्लिनिक के बाहर तथा अपनी पहचान बताने के लिए कर पाएँगे। बहुत से देशों में फार्मासिस्ट के लिए अलग से लोगो की व्यवस्था थी परन्तु भारत में फार्मासिस्ट अपनी पहचान के लिए संघर्षरत था। अब भारत सरकार द्वारा मोनोग्राम को स्वीकार कर लिए जाने के पश्चात फार्मासिस्ट को नई पहचान मिलेगी।

इस मोनोग्राम के लिए फार्मेसी फाउंडेशन ने काफी प्रयास किए थे तथा लोगो के लिए आवेदन भी किया था। इसके बाद सरकार ने फार्मेसी फाउंडेशन द्वारा सुझाए डिजाईन को स्वीकार कर जरी कर दिया। यह लोगो केवल रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट के उपयोग के लिए है तथा इस लोगो द्वारा आम नागरिक फार्मासिस्ट तथा डॉक्टर में भेद कर पाएगा।

गौरतलब है कि फार्मासिस्ट दवाइयों का विशेषज्ञ वह व्यक्ति होता है जिसकी जरूरत आम नागरिक तथा डॉक्टर दोनों को होती है। इस प्रकार फार्मासिस्ट डॉक्टर तथा मरीज के बीच का प्रमुख सेतु है। परन्तु दुर्भाग्यवश सरकारी तंत्र द्वारा उपेक्षित होने के कारण यह पेशा अभी तक अपनी पहचान बनाने मेही लगा हुआ है।

रजिस्टर्ड फार्मासिस्टों को मिली राष्ट्रीय स्तर पर पहचान Registered Pharmacists get recognition at national level

Post a Comment

0 Comments